Friday Thoughts : आग अपने ही लगाते है, जिंदगी को भी और लाश को भी 

74
Friday-Thoughts-in-hindi-suvichar-suprabhat-good-morning-quotes-inspirational-motivational-quotes-in-hindi-thought-of-the-day
आग अपने ही लगाते है, जिंदगी को भी और  लाश को भी 

Friday-Thoughts-in-hindi-suvichar-suprabhat-good-morning-quotes-inspirational-motivational-quotes-in-hindi-thought-of-the-day

आग अपने ही

लगाते है 

जिंदगी को भी और 

लाश को भी 

Thoughts in Hindi:काबिलियत इतनी बढ़ाओ की तुम्हें हराने के लिए कोशिश नही साजिश करनी पड़े।

काबिलियत इतनी बढ़ाओ की

 तुम्हें हराने के लिए कोशिश नही

साजिश करनी पड़े

Thoughts in hindi:छोटी सी जिंदगी ने बड़ा सबक दिया, रिश्ते सबसे रखो लेकिन उम्मीद किसी से नहीं। 

जो व्यक्ति अपनी गलतियों के लिए

अपने आप से लड़ता है,

उसको कोई नही हरा सकता है

Suvichar in Hindi:आप कभी भी कामयाब नही बन सकते,अगर आप अपने अतीत को याद करके परेशान रहते हैं।

 

यह दुनिया ये नही देखती की तुम पहले क्या थे,

बल्कि यह देखती है की अभी तुम क्या हो।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

लाइफ में कठिनाई आए तो उदास मत होना,

बस यह याद रखना की मुश्किल रोल अच्छे एक्टर को ही दिए जाते है।

 

 

 

 

 

Tuesday Thoughts : तुझे पानी की कोशिश में, कुछ इतना खो चूका हूँ मैं, कि तू अगर मिल भी जाए, तो अब मिलने का गम होगा 

 

 

 

 

 

 

 

अगर आपने अपना लक्ष्य चुन लिया है ,

तो उस पर मेहनत और लगन के साथ स्थिरता से काम करो,

जल्द ही सब कुछ बदल जाएगा।

 

 

 

 

Saturday thoughts: मत रख इतनी नफ़रतें,अपने दिल में ए इंसान…जिस दिल में नफरत होती है, उस दिल में रब नहीं बसता.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

आप लोग फिर से कोशिश करने से मत घबराना,

क्योंकि दुबारा की गई शुरुआत शून्य से नही अनुभव से होगी।

 

 

 

 

Sunday Motivation : अगर आप पर कोई  मरता है तो कोशिश करों की वह जिन्दा रहे

 

 

 

 

 

 

एक इच्छा से कुछ नही बदलता,

एक निर्णय से थोड़ा कुछ बदलता है,

परन्तु एक निश्चय सब कुछ बदल देता है।

 

 

 

 

Suvichar in Hindi:हर रिश्ते में ‘अमृत’ बरसेगा शर्त इतनी है, कि शरारतों की ‘इजाज़त’ है, पर ‘साजिशों’ की नहीं

 

 

 

 

 

 

माफ करना और शांत रहना सीखो,

आप ऐसी ताकत बन जाओगे की पहाड़ भी रास्ता देंगे।

 

 

 

 

 

Wednesday Thoughts : जब दर्द ‌और कड़वी बोली दोनों सहन होने लगे…

 

 

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here